खेतों की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए जिप्सम का प्रयोग कब और कैसे करें

 जिप्सम डालना जरूरी क्यों है? किसान फसल उगाने के लिए सामान्यत: नाइट्रोजन, फॉस्फोरस तथा पोटैशियम का उपयोग करते है। कैल्शियम एवं सल्फर का उपयोग नहीं करते है। जिससे कैल्शियम एवं सल्फर की कमी की समस्या धीरे-धीरे विकराल रूप धारण कर रही है। इनकी कमी सघन खेती वाली भूमि, हल्की भूमि तथा अपक्षरणीय भूमि में अधिक […]

पूरा पढ़ें...

गेँहू में रोग और उनके उपचार

गेंहू बहुत ही नाजुक फसल होती है। इसे रोगों से बचाना अति आवश्यक होता है। गेँहू में रोग और उनके उपचार इस प्रकार हैं। 1- दीमक दीमक सफेद मटमैले रंग का बहुभक्षी कीट है जो कालोनी बनाकर रहते हैं। श्रमिक कीट पंखहीन छोटे तथा पीले/ सफेद रंग के होते हैं एवं कालोनी के लिए सभी […]

पूरा पढ़ें...

असली खाद के पहचान

आजकल बाजार में खाद की कमी होने के चलते नकली खाद को असली खाद बताकर बेचा जा रहा है। नकली खाद खेत में डालने पर फसल में कोई फायदा नहीं होता जबकि किसान को पूरा दाम देना पड़ता है। इस सब से बचने के लिए असली खाद की पहचान करने के बहुत ही सरल तरीके […]

पूरा पढ़ें...

गोबर से खाद बनाने की सरल विधि

गोबर से खाद बनाने की विधियाँ भारत में पहले से गोबर से खाद बनाने की दो विधियाँ प्रचलित है ठंडी विधि गरम विधि ठंडी विधि इसके लिये उचित आकार के गड्ढे, 20-25 फुट लंबे, 5-6 फुट चौड़े तथा 3 से लेकर 10 फुट गहरे, खोदे जाते हैं। इनमें गोबर भर दिया जाता है। भरते समय […]

पूरा पढ़ें...